What is the Difference Between the Tata Ace BS4 and BS6 Mini Trucks?

टाटा ऐस बीएस4 और बीएस6 मिनी ट्रक में क्या अंतर है?

टाटा मोटर्स | Jul 8, 2021 3:14 pm
शेयर: व्हाट्सएप ईमेल लिंकडीन फेसबुक ट्विटर गूगल प्लस

1 अप्रैल 2020 से, भारत सरकार ने वाहनों के लिए नए उत्सर्जन मानदंड (एमिशन नॉर्म) लागू किए थे। ये मानदंड, जिन्हें BS6 कहा जाता है, वायु प्रदूषण के स्तर की मात्रा को कम करने और सतत ऑटोमोबाइल प्रौद्योगिकी के लिए यूरो 6 जैसे अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन करने के लिए बनाए गए थे।

इन मानदंडों का पालन करने के लिए, हमने अपने ऐस गोल्ड ट्रकों का बीएस6 लाइन-अप बनाया है। इंजन के अलावा, हमने कई अन्य सुधार भी पेश किए हैं ताकि हमारे मिनी ट्रक ग्राहकों की नंबर 1 पसंद* बने रहें।

टाटा ऐस गोल्ड बीएस6 डीजल, पेट्रोल और सीएनजी वेरिएंट में उपलब्ध है।

नए ऐस ट्रकों को प्रॉमिस ऑफ 6 (बीएस4 की विशेषताओं के अलावा) यानी अधिक माइलेज, अधिक पिक-अप, अधिक पेलोड क्षमता, अधिक आराम और सुविधा, कम रखरखाव लागत तथा अधिक लाभ के लिए डिज़ाइन किया गया है। टाटा ऐस बीएस4 और बीएस6 मिनी ट्रक के बीच सबसे बड़े अंतर इस प्रकार हैं:

उत्सर्जन मानदंड (एमिशन नॉर्म)

बीएस4 इंजन की तुलना में बीएस6 इंजन नाइट्रोजन ऑक्साइड (NOx) उत्सर्जन को 76%, हाइड्रोकार्बन (HC) उत्सर्जन को 32% और पर्टिकुलर मेटर (PM) उत्सर्जन को 82% तक कम करने में सक्षम है। वर्तमान उत्सर्जन माप** क्रमशः 0.06, 0.17 और 0.0045 हैं।

पिकअप

टाटा ऐस गोल्ड के बीएस6 वेरिएंट ज्यादा पावर और पिकअप के साथ आते हैं। ऐस गोल्ड डीजल 20hp की पावर और 45Nm टॉर्क के साथ आता है; पेट्रोल 30hp और 55 Nm टॉर्क के साथ आता है और सीएनजी 26hp और 50Nm टॉर्क के साथ आता है।

माइलेज

ऐस वेरिएंट की बीएस6 रेंज समान लोड और लीड के लिए अपने बीएस4 वेरिएंट की तुलना में बेहतर माइलेज देती है।

पेलोड

टाटा ऐस बीएस6 एक प्रबलित फ्रेम चेसिस और कड़े सस्पेंशन के साथ आता है, जिसने भार वहन करने की क्षमता बेहतर हो गई है। इसे GVW 1,550 किलोग्राम से बढ़ाकर 1,675 किलोग्राम (डीजल वेरिएंट के लिए) और 1,615 किलोग्राम (पेट्रोल वेरिएंट के लिए) कर दिया गया है। दोनों बीएस6 वेरिएंट 750 किलोग्राम की अधिक पेलोड क्षमता के साथ आते हैं। 1630 किग्रा GVW के साथ सीएनजी वेरिएंट का पेलोड 640Kg है।

रखरखाव (मेंटेनेंस)

बीएस6 ट्रक के इंजन ऑयल और इंजन ऑयल फ़िल्टर, दोनों को 10,000 किमी या 8 महीने (जो भी पहले हो) के बाद बदलना पड़ता है, जो कि बीएस4 ट्रकों के 4 महीने से दोगुना है। बीएस6 ट्रक के लिए फ्यूल फिल्टर एलीमेंट को हर 40,000 किमी और बीएस4 ट्रक के लिए 10,000 किमी के बाद बदलना पड़ता है। डीईएफ फ्लूइड (डीजल वेरिएंट के लिए) को हर 10,000 किमी पर बदलना पड़ता है। यह बीएस4 इंजन में मौजूद नहीं है। पेट्रोल वेरिएंट केवल बीएस6 वेरिएंट के रूप में उपलब्ध है।

सुविधा

टाटा ऐस बीएस6 ट्रक एक नए केबल टाइप गियर शिफ्टिंग, बेहतर ब्रेकिंग सिस्टम (एलसीआरवी और ब्रेक बूस्टर के साथ कैलिपर्स और ड्रम ब्रेक) और सुविधाजनक ड्राइव के लिए बेहतर एबीसी पेडल के साथ आते हैं।

इन सभी सुधारों के साथ, हम सुनिश्चित करते हैं कि बीएस6 में अपग्रेड करना सही विकल्प है।

*टाटा ऐस मिनी ट्रक्स 2005 से नंबर 1 पसंद हैं, जिसे ग्राहकों की 8/10 यानी उच्च स्तरीय विश्वास की रेटिंग प्राप्त है।

**उत्सर्जन (एमिशन) को ग्राम प्रति किलोमीटर में मापा जाता है।

हाल के लेख